राजस्थान के 25 लाख युवाओं का भविष्य अटका हुआ इन 12 सरकारी भर्तियों में : जानिए कोनसे विभागो में है लंबित –

राजस्थान में अभी 12 बड़ी भर्तियां अटकने से 25 लाख युवाओं का भविष्य अधर में है। ये भर्तियां छोटे-छोटे कारणों से फंसीं है। आज के लेख में हम आपको इस भर्तियों के बारे में सम्पूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे है अतः आप इस लेख को आखरी तक पढ़े।

आरएएस भर्ती, 2018

पद- 980 कोर्ट में मामला

मामला कारण- इस भर्ती की अधिसूचना 2018 में जारी की गयी थी। यह भर्ती 980 पदों के लिए निकाली गयी थी। इस भर्ती की आवेदन प्रक्रिया 12 अप्रेल से 12 मई को रात्रि बारह बजे तक चली थी। इसमें 75 आरएएस, 34 आरपीएस सहित कुल 405 पदों पर और अधीनस्थ सेवा के लिए 575 पदों के लिए भर्ती आयोजित की गयी थी। विभागीय मंत्रालयिक कर्मचारी व भूतपूर्व सैनिक कोटे में अपात्र उम्मीदवार बुलाए। तीन गुना की बजाय डेढ़ गुणा अभ्यर्थी बुलाए इस लिए इस को रद्द किया गया। कमीशन ने 1051 पदों के बदले में 2010 उम्मीदवार पास किये।

राजस्थान पुलिस कांस्टेबल भर्ती 2020

पद- 5438, कोर्ट में मामला

वजह – जिलास्तर की जगह राज्य स्तर पर मेरिट बना दी।

स्टेनोग्राफर- पद 1085

कारण- 2018 की भर्ती, टाइप परीक्षण, सर्वर डाउन का विवाद।

इस भर्ती की अधिसूचना 2020 में जारी की गयी थी। यह भर्ती 5438 कांस्टेबल के पदों के लिए निकाली गयी थी। इसमें करीब 13 लाख अभ्यर्थी शामिल हुए थे। परीक्षा की फाइनल आंसर-की जारी कर दी गई थी और रिजल्ट जारी होने वाला था। लेकिन अब कोर्ट में याचिका दायर होने के बाद रिजल्ट जारी करने पर अंतरिम रोक लगा दी गई।

Also Read : ग्रामीण डाक सेवक के 38,926 पदों पर निकली हैं भर्ती 2022

प्री-प्राइमरी टीचर- 2018 (NTT)

पद- 1310, कोर्ट में मामला

वजह – दूसरे राज्यों से NTT की डिग्री पर विवाद।

इस भर्ती की आवेदन प्रक्रिया 29 सितंबर 2018 से 28 अक्टूबर 2018 तक चली थी। इसमें नॉन टीएसपी के 1000 और टीएसपी के 310 पद थे।

पटवारी भर्ती:- कोर्ट में मामला

कारण- ओबीसी आरक्षण व विवादित आंसर-की मामला।

एलडीसी भर्ती, 2018

पद- 11322, कोर्ट में मामला

कारण- मेरिट अनुसार संभाग व गृह जिले का आवंटन नहीं। हाईकोर्ट में चुनौती दी गई तो कोर्ट को भर्ती में दखल देना पड़ा।

एलडीसी भर्ती 2018 के तहत 11322 पदों की भर्ती भी पूर्ण नहीं हो पाई है। इस भर्ती के लिए हाई कोर्ट में चुनौती दी गई। इन पदों के लिए कुल 8 लाख से अधिक अभ्यर्थियों के लिए 12 अगस्त 2018 से 16 सितंबर 2018 तक परीक्षा आयोजित कि गयी। परीक्षा के करीब 6 माह बाद पिछले माह 7 मार्च को इसका परीक्षा परिणाम जारी किया गया था।

पशु चिकित्सा अधिकारी भर्ती

कुल पद- 900, कोर्ट में मामला

कारण- Marks और कटऑफ जारी किए बिना साक्षात्कार के लिए बुलाया।

पशुधन सहायक भर्ती- कोर्ट में मामला

कारण- प्रश्न व Answer-Key में गड़बड़ी। हाईकोर्ट ने रोक लगाई।

इस भर्ती के लिए ऑन लाइन आवेदन की प्रक्रिया 25 अक्टूबर से 24 नवंबर तक चली थी। और 2 अगस्त 2020 को परीक्षा संपन्न हुई। 2300 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी। अभी तक एग्जाम का रिजल्टघोषित नहीं किया गया है।

हैडमास्टर भर्ती-

कुल पद- 1200, कोर्ट में मामला

कारण- भूतपूर्व सैनिकों को रिजर्वेशन का लाभ न देने का मामला विवादित।

यह भर्ती 2018-2019 में निकाली गयी थी। इन पदाें के लिए 9 अप्रेल से 15 मई 2018 रात्रि 12 बजे तक आवेदन किया गए थे। वहीं परीक्षा 2 सितम्बर 2019 को आयोजित की गई थी। और इस भर्ती का परिणाम 23 सितम्बर 2019 को जारी किया गया था। लेकिन  भूतपूर्व सैनिकों को आरक्षण का लाभ न देने के कारण मामला भी कोर्ट में है! इस भर्ती में भूतपूर्व सैनिकों को आरक्षण का लाभ न देने का मामला लंबित है। (https://rpsc.rajasthan.gov.in/Static/RecruitmentAdvertisements/E6503FFE1F3A41299CFD88FEF3C1822D.pdf)

लंबित भर्तियों का जल्द हल निकालेंगे-

राजस्थान शिक्षामंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा कि मुख्यमंत्री भर्तियां समय पर पूरा करने को लेकर गंभीर हैं। लंबित मामलों में वित्त व विधि विभाग के अफसरों के साथ समीक्षा करेंगे। जो मामले अदालत में हैं, उनमें देखेंगे कि किस तरह से रिलीफ दे सकते हैं। शिथिलता की जरूरत पड़े तो वह भी देखेंगे।

राजस्थान के 25 लाख युवाओं का भविष्य अटका हुआ इन 12 सरकारी भर्तियों में
राजस्थान के 25 लाख युवाओं का भविष्य अटका हुआ इन 12 सरकारी भर्तियों में

Leave a Comment